Kolkata

प्रधानमंत्री के लोकल फॉर वोकल का सपना साकार करने की पहल

कोलकाता में जेनेरिक आधार का पहला मेडिकल स्‍टोर लांच

कोलकाता. कोविड 19 महामारी के कारण पूरे देश की अर्थव्‍यवस्‍था प्रभावित हुई है. ऐसे में वरिष्‍ठ नागरिक व मध्‍यम वर्ग के लिए स्‍वास्थ सेवा सबसे बडी चुनौती है. महंगें दवाओं की वजह से लोगों को परेशानी उठानी पड रही है. ऐसे में युवा उदयमी अर्जुन देशपांडे ने जेनरिक आधार मेडिकल स्‍टोर की परिकल्‍पना को साकार करने की पहल आरंभ की है. यह देश का पहला ऐसा स्‍टोर हैं जहां सरकारी दर से भी कम में दैनिक काम में आने वाली दवाओं की आपूर्ति की जाएगी. श्री देशपांडे ने कोलकाता में अपना पहला स्‍टोर लांच किया. यह बेहला के आरकेडिया में खुला है. कंपनी पूरे कोलकाता में 500 स्‍टोर खोलने की परियोजना पर काम कर रही है. कंपनी ने कोलकाता के साथ पार्श्‍ववर्ती अंचलों वर्दमान, बांकुडाआसनसोलदुर्गापुर व हावडा जैसे इलाकों में भी अपना स्‍टोर खोलने की महत्‍वाकांक्षी योजना पर काम करना आरंभ कर दिया है. इस समय कंपनी देश के एक दर्जन से अधिक राज्‍यों में अपनी पहुंच बना चुकी है. पूर्वी भारत का गेटवे कहा जाने वाला कोलकाता के साथ सुदूर उत्‍तर पूर्व के असम, मेघालयमणिपुर व मिजोरम जैसे राज्‍यों में भी कंपनी ने अपना फैलाव किया है. कोलकाता में अपना पहला स्‍टोर लांच करते हुए युवा उदयमी अर्जुन देशपांडे ने बताया कि जिस तरह से राज्‍य सरकार के अस्‍पतालों में जेनरिक दवा की दूकान होती है ठीक उसी तर्ज पर जेनेरिक आधार भी कार्य कर रही हैलोगों में यह धारणा है कि जेनेरिक दवाएं असरदार नहीं होतीजबकि ऐसा बिलकुल भी नहीं है. कंपनी ने प्रधानमंत्री के लोकल फॉर वोकल को दमदार तरीके से लागू करने के साथ ही वरिष्‍ठ नागरिकों व मध्‍यम वर्ग का ख्‍याल रखते हुए दवा दूकानों की श्रंखला पेश की है। उन्‍होंने इसके लिए लोगों को जागरुक करने का भी कार्य जारी रखा है.

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button