Crime

बीएसएफ ने भारत–बांग्लादेश सीमा पर फेंसेडिल किया जब्त, एक फेंसिडिल तस्कर भी गिरफ्तार

डेस्क: दक्षिण बंगाल फ्रंटियर अंतर्गत सीमा सुरक्षा बल (BSF) के जवानों ने तस्करों के मंसूबों को नाकाम कर बंगाल में भारत-बांग्लादेश अंतरराष्ट्रीय सीमा क्षेत्र में अपनी जिम्मेवारी के इलाके से अलग-अलग घटनाओं में 799 बोतल प्रतिबंधित फेंसेडिल कफ सिरप जब्त किया है। साथ ही एक तस्कर को भी गिरफ्तार किया है। बीएसएफ की ओर से एक बयान में बताया गया कि जब्त की गई फेंसेडिल की अनुमानित कीमत 1,49,133 रुपये हैं। तस्कर इन सभी फेंसेडिल की बोतलों को तस्करी कर भारत से बांग्लादेश ले जाने की फिराक में थे।

दिनांक 02 मार्च, 2022 को 54वीं वाहिनी की सीमा चौकी गेदे के जवानों ने पुख्ता सूचना के आधार पर कार्यवाही करते हुए एक व्यक्ति को गिरफ्तार किया और उसके पास से 60 बोतल फेंसेडिल जब्त किया। गिरफ्तार किए गए व्यक्ति की पहचान बांग्लादेश के चुआडंगा जिले में रहने वाले 45 वर्षीय कासिद अली के रूप में हुई है।

पूछताछ में क़ासिद अली ने स्वीकार किया कि वह पिछले एक साल से सीमा पार तस्करी में लिप्त है। आगे उसने बताया कि वह चुआडांगा जिले के आंकुडबेरिया गांव के रहने वाले बिलाल के लिए काम करता है। आज उसने ये फेंसेडिल गेदे गांव के रहने वाले मिंटी मंडल से लिया था और बांग्लादेश मे बिलाल को सौंपना था। बिलाल उसका अंतर्राष्ट्रीय सीमा पर ही इंतजार कर रहा था।

अन्य घटना में दिनांक 02 मार्च, 2022 को सीमा सुरक्षा बल के जवानों ने अपने इलाके में जगह-जगह अम्बुश लगाकर तस्करों के नापाक इरादों को नाकाम कर दिया और 739 फेंसेडिल बोतल बरामद की। हालांकि तस्कर अंधेरे का फायदा उठाकर भाग निकलने में कामयाब हो गए। दक्षिण बंगाल फ्रंटियर ने पिछले 24 घंटे में अपने जिम्मेवारी के इलाके से 799 फेंसेडिल जब्त करने में कामयाबी हासिल की है।

इधर, गिरफ्तार तस्कर तथा जब्त फेंसेडिल बोतलों को आगे की कानूनी कार्यवाही के लिए संबंधित कस्टम कार्यालय/ पुलिस स्टेशन को सौंप दिया गया है। वहीं, दक्षिण बंगाल फ्रंटियर जन संपर्क अधिकारी ने इस सफलता पर प्रसन्नता व्यक्त करते हुए अपने जवानों की पीठ थपथपाई। उन्होंने कहा कि यह केवल ड्यूटी पर तैनात उनके जवानों द्वारा प्रदर्शित सतर्कता के कारण ही संभव हो सका है। अधिकारी ने साफ शब्दों में कहा कि उनके जवानों की नजरो से कुछ नहीं छिप सकता।

Related Articles

Leave a Reply

Your email address will not be published.

Back to top button